Top
Breaking News

"काफिर" कौन है ?

मुस्लिमों, गैर-मुस्लिमों, हिन्दू, मुसलमान, disbeliever, unbeliever, Kafir, Non Muslims, who-is-kafir-according-to-quran-islam"काफिर" कौन है ? क्या कहती है "कुरान"

ये ऐसा प्रश्न है जो गैर-मुस्लिमों के लिए लगभग 1400 वर्षों से अनुतरित है।


काफ़िर के अर्थ पर मौलाना लोग और अक्सर मुस्लिम विद्वान सफ़ेद झूठ बोलते हुए पहले तो इस बात से साफ़ इंकार कर देते हैं कि काफिर से मुराद हिन्दू, ईसाई या यहूदी है; फिर दूसरा झूठ ये बोलते हैं कि काफ़िर "नास्तिक" को कहतें हैं।

ये लोग सफ़ेद झूठ बोलते हैं; ऐसा मैं इसलिये कह रहा हूँ क्योंकि बकौल कुरआन "काफ़िर" का अर्थ किसी रूप में भी "नास्तिक" नहीं होता। इसके लिये कुरआन ने एक भी गुंजाइश नहीं छोड़ी है।

कुरआन, हदीस और नबी की सीरत सामने रखूँ तो मुझे काफ़िर का एक ही अर्थ समझ आता है। इस्लामिक मान्यताओं के अनुसार काफ़िर वो है जिसने इस्लाम को नहीं माना, जिसने उस गुण और विशेषताओं वाले खुदा को नहीं माना जैसा कुरान या रसूल ने बताया है। जिसने तमाम नबियों और आसमानी किताबों का इंकार कर दिया, जिसने जन्नत-जहन्नम और क़यामत का इंकार और खत्मे-नबूबत से भी इंकार कर दिया वो भी क़ाफ़िर है।

काफ़िर का अर्थ नास्तिक इसलिये नहीं हो सकता क्योंकि कुरान में बाकायदा सूरह-काफिरून नाम से एक सूरह है जो (सीधे मक्का के मूर्तिपूजकों) काफिरों के मुतल्लिक आदेश देती है।

ये सूरह कहती है:-

Say : O ye that reject Faith (काफिरून)

I worship not that which ye worship,

Nor will ye worship that which I worship.

Nor will I worship those whom you have worshipped;,

Nor will ye worship that which I worship.

To you be your Way, and to me mine.

अब रोचक बात ये है कि इस सूरह में कहा गया है, ऐ मुहम्मद, कह दीजिये इन काफिरों से कि जैसी इबादत तुम करते हो वैसी इबादत मैं नहीं करता। यानि कुरान यहाँ उन लोगों को काफ़िर कह रहा है जो इबादत करने वाले थे पर चूँकि उनका तरीका नबी-साहेब के आदेश के मुताबिक नहीं था इसलिये वो काफिर ठहराये गये। इसी तरह सूरह माइदा में कुरान कहता है, "जो लोग इस बात के क़ायल हैं कि मरियम के बेटे ईसा मसीह ख़ुदा हैं वह सब काफ़िर हैं" यानि अगर कोई आस्तिक है पर वो अगर इस बात पर ईमान रखता है कि ईसा या उजैर खुदा का बेटे हैं तो वो काफ़िर है।

इन तमाम दलीलों के बाद ये जरूरी है कि काफ़िर का जो सही अर्थ है उसके ऊपर नेक-नियति और ईमानदारी से बात हो, आप ये तस्लीम करें कि तमाम-गैर मुसलमान भले ही वो आस्तिक हैं पर वो सब आपकी परिभाषा में काफिर हैं। कोई भले ही ईश्वर को मानता हो पर वो जिस ईश्वर को मानता है वो अगर कुरान में परिभाषित ईश्वर जैसा नहीं है तो वो काफ़िर ही है। पहले आप हम काफिरों को परिभाषित कर दीजिये, फिर उनके साथ क्या व्यवहार हो इसकी चर्चा आगे करेंगे।

सूरा अल-माइदा में जो कई बार कुफ़्र शब्द आया है उस कुफ़्र को करने वाले को ही काफिर कहा जाता है।
























Share it