Top

सबसे बड़ा अतिक्रमण: वाराणसी में जमीन के नीचे गुपचुप बसाया जा रहा था मिनी शहर

सबसे बड़ा अतिक्रमण: वाराणसी में जमीन के नीचे गुपचुप बसाया जा रहा था मिनी शहरवाराणसी में जमीन के 20 फीट नीचे गैरकानूनी तरीके से बसरा जा रहा था एक छोटा शहर

वाराणसी (समाचार स॰) : काशी के अतिसंवेदनशील माने जाने वाले क्षेत्र श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर से मात्र कुछ कदमों के फासले पर जमीन के नीचे गुपचुप तरीके से बनाए/बसाये जा रहे मिनी शहर की तैयारी का खुलासा होने से शहर और प्रशासन में हडक़ंप मच गया है। मंदिर के आसपास दालमंडी का यह इलाका घनी आबादी एवं बाजार वाला इलाका है। संबन्धित ठाणे में इस इलाके से बड़े पैमाने पर अतिक्रमण की शिकायतें हैं।

जमीन के नीचे इतने बड़े पैमाने पर खुदाई करके बनाए जा रहे निर्माण की भनक क्यों नहीं लगी ?

सूत्रों के अनुसार जमीन के नीचे लगभग 20 फीट की गहराई में बन रहे इस "मिनी शहर" का खुलासा एसएसपी से की गई गोपनीय शिकायत के बाद हुआ। सोमवार की आधी रात को गश्त के बहाने एसएसपी दालमंडी इलाके में पहुंचे। गैरकानूनी तरीके से जमीन के नीचे बनाए जा रहे इस "मिनी शहर" का चौकाने वाला खुलासा उस वक्त हुआ जब सोमवार को आधी रात के बाद एसएसपी आर॰के॰ भारद्वाज गश्त के बहाने दालमंडी इलाके में पहुंचे।
चौक थाने के बगल से दालमंडी में प्रवेश करने पर लंगड़ा हाफिज मस्जिद के सामने एक कटरे के बेसमेंट में रोशनी दिखाई दी। पता चला कि बेसमेंट में काम चल रहा है। उत्सुकतावश एसएसपी बेसमेंट में उतरे और नीचे का नज़ारा देख कर स्तब्भ्ध रह गए। बेसमेंट में लगभग 40 बिस्वा में अंदर एक के बाद एक कई कटरे बने थे कटरे का मुहाना दालमंडी से शुरू हुआ और करीब दो सौ मीटर की दूरी पर बेनिया पार्क की तरफ जाने वाले मार्ग पर जाकर समाप्त हुआ। इसके बाद एसएसपी ने आसपास के अन्य कटरों की छानबीन शुरू की। जैसे-जैसे पड़ताल बढ़ती गई पुलिस की हैरानी भी बढ़ती गई। वहां मौजूद दर्जनों कटरे के नीचे एक नया बाजार बनाया जा रहा है। आलम यह कि मस्जिद के आसपास भी खोदाई कर बेसमेंट में कटरा बनता मिला।
सबसे हैरतअंगेज बात तो यह कि हमेशा से आतंकियों के निशाने पर रहे श्री काशी विश्वनाथ मंदिर से चंद कदम दूरी पर जमीन के 20 फीट नीचे बड़े क्षेत्र में बन रहे इस गैरकानूनी "मिनी शहर" की भनक न तो विकास प्राधिकरण को लगी और न ही नगर निगम को या "फिर ये भी संभव है कि प्रशासन के भ्रष्ट कर्मचारियों की जानकारी में हो लेकिन पैसे ने मुंह बंद कर दिया हो?"
एसएसपी आरके भारद्वाज ने बताया कि वाकई खतरनाक स्थिति देखने को मिली। अंदाजा नहीं था कि दालमंडी में गुपचुप तरीके से वृहद स्तर पर धरती के नीचे पूरा बाजार तैयार किया जा रहा। वीडीए व नगर निगम के अधिकारियों से वार्ता कर उन्हें वस्तुस्थिति से अवगत कराने के साथ ही पत्र भी लिखा गया है। पुलिस अपने स्तर से कार्रवाई करेगी।

Share it