Top

श्रीदेवी की मौत.. अनसुलझी.. गुत्थी ?

श्रीदेवी अपनी बेटी और बोनी कपूर के साथ दुबई विवाह समारोह में गईं ! विवाह संपन्न हुआ... श्रीदेवी वहीं रुक गईं एक होटल में अकेले... क्यो रुक गईं... क्योंकि उन्हें अपनी बड़ी बेटी के लिए 'दुबई में शॉपिंग' करनी थी.. गौर फरमाए कि बेटी के लिए शॉपिंग करने के लिए छोटी बेटी और बोनी कपूर साथ मे होते तो क्या दुबई के दुकानदार 'लूट' लेते ?... बोनी कपूर 'बिज़ी' थे मगर बेटी को भी... माँ श्रीदेवी को अकेले होटल के कमरे में छोड़कर आने की क्या ज़रूरत थी ?... जिससे वह अगले 48 घंटे तक बाहर ही नहीं निकलीं ?... बल्कि कहें तो मर कर ही बाहर निकलीं....
पेंच देखिए... जिस मोबाइल के व्हाट्सएप ग्रुप में बड़ी बेटी हेतु शॉपिंग की कथित लिस्ट थी... वह मोबाइल बोनी कपूर और बेटी के जाने से पहले ही होटल के भोजन कक्ष में गुम हो गया... परंतु इतनी बड़ी स्टार के लिए एक नए मोबाइल-सिमकार्ड का इंतज़ाम बोनी कपूर नहीं करा सके... वह मोबाइल अब कहां है किसी को पता नहीं... काल डिटेल का पता नहीं... 48 घंटो तक श्रीदेवी-बोनी कपूर की आपस मे क्यों नहीं बातचीत हुई ?.... क्या मुम्बई में बैठकर दुबई होटल के रिसेप्शन के मॉध्यम से लैंड लाइन फोन से भी बात नहीं हो सकती थी ?.... एक जगह ज़िक्र है कि मुम्बई में शूटिंग कर रही जाह्नवी से श्रीदेवी की एक बार बात हुई... जिसे उन्होंने 'सबको बताकर' सेट के बाहर जाकर अटेंड किया... पता नहीं फोन श्रीदेवी का ही था या जानबूझकर यह 'पोज़ किया गया था... कि बोनी कपूर के दुबई से लौटने के बाद श्रीदेवी दुबई में ज़िंदा थीं...
पेंच बहुत हैं इस जासूसी कथा में... 48 घंटे तक श्रीदेवी ने कुछ नहीं खाया... क्योकि ऐसा वेटर कहते हैं... कि उन्होंने कोई रूम सर्विस नहीं दी...तो क्या श्रीदेवी मुम्बई से एक-आध किलो नमकीन डाल कर ले गईं थीं.... जिसके साथ वह क्या सिर्फ शराब का सेवन करती रहीं ?... यहां तक इन 48 घंटे होटल सुइट की सफाई तक नहीं हुई.. ग्रेट... यहां दो बातें गौर करें... श्रीदेवी के रक्त में शराब मिली...पोस्टमार्टम में मृत्यु का समय कहीं नहीं दिख रहा....
खैर..श्रीदेवी ने कोई परचेजिंग/शॉपिंग नहीं की.. मुम्बई में बेटी से कोई नई शॉपिंग लिस्ट मांगने की ज़रूरत नहीं समझी..... इधर मुम्बई लौटे सठियाये हुए बोनी कपूर... श्रीदेवी 54 वर्ष को लेकर सेंटी हो गए... रोमांटिक् हो गए... श्रीदेवी की याद में पागल हो गए.... श्रीदेवी को देखने को लालायित हो गए... मुम्बई -दुबई टिकट कटाई और श्रीदेवी को सरप्राइज देने आनन-फानन वापस दुबई होटल जा पहुचे...फिर गौर करें कि बोनी कपूर इतना भयकंर सरप्राइज देना चाहते थे कि कमरे की घण्टी बजाकर या दरवाज़ा खटखटाकर श्रीदेवी को सरप्राइज देना उन्हें मंजूर न था.... सो उन्होंने होटल रिसेप्शन से श्रीदेवी के कमरे की डुप्लीकेट' चाबी हांसिल की... एक होटल स्टाफ के साथ कमरे तक पहुँचे.... डुप्लीकेट चाबी से दरवाज़ा खोला... स्टाफ को बाहर से बाहर रवाना किया... और अंदर सरप्राइज देने अकेले घुस पड़े.... पता नहीं श्रीदेवी सरप्राइज हुईं कि नहीं ?... अगर वहाँ पहले से कोई लाश थी तो... 'लाशें' सरप्राइज' होती हैं या नहीं ?
बकौल बोनी कपूर, 'सरप्राइज' देने के बाद श्रीदेवी और बोनी कपूर डिनर लेने नीचे डिनर कक्ष जाने वाले थे..... श्रीदेवी भूखी तो होंगीं ही.... क्योकि पिछले 48 घंटे से शराब और मुम्बई से लाई दालमोठ पर ही वह गुजारा कर रही थीं... शराब पता नहीं कहाँ से उन्हें मिलती रही... शायद होटल वालों ने शराब की पाइप लाइन डाल रखी हो..... बहरहाल श्रीदेवी बाथरूम चली गईं.... जैसी परंपरा है... 15-20 मिनट तक अकेले बोनी कपूर टीवी पर क्रिकेट मैच देखते रहे... श्रीदेवी बाथरूम से तैयार होकर नहीं निकलीं....बाथरूम का दरवाजा अंदर से बंद था...बोनी कपूर... 'जान'... 'मेरी जान'..... कह कर आवाज़े देते रहे.... 'जान' अर्थात श्रीदेवी की बाथरूम से कोई आवाज़ नहीं आई... बोनी 'चिंतित' हो गए... जैसे तैसे' दरवाज़ा खोला गया तो श्रीदेवी... जिनकी हाइट 5 फिट 8 इंच थी... बाथटब में डूबी पड़ी थी.... सिर से पैर तक बाथटब में थीं मय कपड़ो के... बाथरूम के फर्श पर पानी का कोई कतरा तक नहीं था... 2 फिट' गहराई के बाथटब में 'डूब' कर श्रीदेवी की मौत हो चुकी थी.... बोनी ने होटल मैनजेमेंट के बजाए अपने एक लोकल परिचित को श्रीदेवी के इस मृत्यु घटनाक्रम की सूचना दी.... भारत शोक में डूब गया.... प्रधानमंत्री तक शोक के महासागर में डूब गए..... चैनल पर शोकधुने बजने लगी.... कुछ लोगों ने राय रखी... कि तिरंगे को झुका दिया जाय... मगर ''तिरंगे ने मद्यपान अभ्यस्त अभिनेत्री की मृत्यु .. या.... हत्या पर झुकने से इनकार कर दिया"....
हां, यह भी जान लीजिए, होटल में इन 48 घंटों की क्लोज़ सर्किट टीवी की रिकार्डिंग उपलब्ध नहीं है.....
बहरहाल दुबई स्थित भारतीय दूतावास और विदेश मंत्रालय की 'कृपा' से बोनी कपूर, साफ सुथरे श्रीदेवी के शव के साथ भारत पहुचने में सफल रहे..... कुछ लोगों का कहना है कि यह घटना भारत मे होती तो शायद कुछ लोग जेलों में होते.....
श्रीदेवी आपने देश को मनोरंजन दिया इसके लिए आभार.... मगर आपकी रहस्यपूर्ण मौत पर भी एक फ़िल्म बन सकती है.... इंतज़ार रहेगा....

Share it