Top

2030 तक अमेरिका से भी ज्यादा ताकतवर बन जाएगा भारत?

अमेरिका, भारत, भारत की अर्थव्यवस्था, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर, साउथ कोरिया, ताइवान, थाईलैंड, अमेरिका का जीडीपी, बढ़ती आबादी, एशियाई देश, एशियाई देश सरकार, भारत सरकार, नरेंद्र मोदी, केंद्र सरकार, Americदेश के विकास में उसे चलाने वाली सरकार के दृष्टिकोण एवं योजनाओं भी अहम योगदान होता है।

इस समय भारत की अर्थव्यवस्था बड़ी तेजी से आगे बढ़ रही है और ऐसे में अनुमान लगाया जा रहा है कि ये बहुत जल्दी भारत विकसित देशों की सूची में अपना नाम दर्ज करवा लेगा।

भारत के विकास के लिए आने वाले कुछ साल बहुत महत्वपूर्ण माने जा रहे हैं।

DBS द्वारा पेश की गई एक रिपोर्ट के मुताबिक साल 2030 तक भारत समेत चीन, हॉन्ग कॉन्ग, इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलीपींस, सिंगापुर, साउथ कोरिया, ताइवान और थाईलैंड का सकल घरेलू उत्पाजद बढ़कर 28, 350 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंच जाएगा। आपको बता दें कि इस दौरान अमेरिका का जीडीपी बस 22, 330 अरब डॉलर होगा। उनका अनुमान है कि 2030 तक एशिया के सभी प्रमुख दस देश अमेरिका की जीडीपी को पीछे छोड़ने में सफल रहेंगें।

इस रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि इन सभी देशों के लिए यहां तक पहुंचना ही काफी नहीं होगा और एशिया में ही निवेश करने से फायदा नहीं होगा क्यों कि निवेश करना किसी एक ही बात पर निर्भर नहीं करता जबकि हम उसे लंबे समय के अवसर के रूप में देख रहे हैं।

एक्सपर्ट्स की मानें तो एशियाई देशों के लिए आर्थिक रूप से आने वाले कुछ साल बेहद महत्वपूर्ण हैं। इससे ग्रोथ के आंकड़े भी पिछड़ सकते हैं। उन चुनौतियों में क्लाएइमेट चेंज, बढ़ती असमानता, खराब होता पर्यावरण और तकनीकी बाधाएं शामिल हैं।

बढ़ती आबादी से होगा फायदा

आज तक आपने बढ़ती हुई आबादी से सिर्फ नुकसान के बारे में सुना होगा लेकिन ऐसा पहली बार हो रहा है जब ज्यादा आबादी की वजह से देश को फायदा होगा। कुछ खास चीज़ों के चलते इन एशियाई देशों ने बीते कई सालों में बहुत तेजी से ग्रोथ की है लेकिन अब वो चीज़ें कमजोर पड़ गई हैं और आगे चलकर उनसे फायदा होने के चांस कम ही हैं।

कुछ सालों तक बढ़ी हुई आबादी की वजह से भारत समेत अन्य सभी एशियाई देशों को खूब फायदा होगा लेकिन ये मुनाफा स्थायी नहीं है। बढ़ती हुई आबादी की वजह से इन देशों में नौकरी के अलावा और भी कई दिक्कतें आ सकती हैं।

अमेरिका की बराबरी कर पाना किसी भी एशियाई देश के लिए आसान बात नहीं है। इसके लिए सभी देशों को कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी, तब कहीं जाकर ये मुकाम हासिल होगा।

इसलिए सभी अर्थव्यवस्थाओं को अमेरिका के स्तर पर पहुंचने में कड़ी मेहनत करने की जरूरत होगी। अब ना तो भारत पहले की तरह सोने की चिडिया रहा है जिसके पास अकूट संपत्ति हो और ना ही इसके आजादी के बाद वाले कंगाली के हालात हैं।

भारत का विकास हो रहा है – अब भारत विकास कर रहा है और इसके विकास की बागडोर है मोदी जी के हाथ में। आप चाहे मानें या ना मानें लेकिन सच बात तो यही है कि मोदी जी की सरकार में देश ने काफी तरक्की की है और अब ये तरक्की सामने दिखने भी लगी है। मोदी जी के प्लान के अनुसार आने वाले कुछ सालों में सभी लोगों के पास अपना घर होगा।

देश के विकास में उसे चलाने वाली सरकार के दृष्टिकोण एवं योजनाओं का भी अहम योगदान होता है।

Share it