Top

हम ब्रिटेन में फैले नए 'COVID Strain' के बारे में कितना जानते हैं? क्या यह भारत में प्रवेश कर गया है?

हम ब्रिटेन में फैले नए COVID Strain के बारे में कितना जानते हैं? क्या यह भारत में प्रवेश कर गया है?

क्या मौजूदा कोरोना वैक्सीन इस नए "COVID Strain" वायरस से भी लड़ने में कुशल होगा? 

हम ब्रिटेन में फैले नए 'COVID स्ट्रेन' के बारे में कितना जानते हैं? क्या यह भारत में प्रवेश कर गया है? क्या मौजूदा कोरोना वैक्सीन इस नए "COVID स्ट्रेन" वायरस से भी लड़ने में कुशल होगा? इसके बारे में हमारे यहाँ के डाक्टर और वैज्ञानिक अब तक कितना और क्या जानते हैं ?

COVID 19 के इस नए म्यूटेशन SARS CoV 2 के ब्रिटेन में पाये जाने पर वायरस से ग्रस्त देशों में और अधिक तनाव और एक प्रकार का डर पैदा कर दिया है और इसे लेकर देश की सरकारों में नई चिंताओं को जन्म दिया है, सरकारों की सबसे बड़ी चिंता है कि क्या COVID 19 से बचाव के लिए बनाई जा रहीं CovidVaccines जो अभी परीक्षण के ही दौर में ही हैं वह इस नए म्यूटेशन SARS CoV 2 के खिलाफ भी प्रभावी होंगी या नहीं?

वैसे भारत में CSIR के महानिदेशक शेखर मंडे ने कहा कि COVID 19 टीके वायरस के इस नए उत्परिवर्ती के खिलाफ भी समान रूप से प्रभावी होंगे और इससे घबराने या डरने की कोई बात नहीं है।

इस सब के मध्य भारत में चिंता की बात ये है कि यूनाइटेड किंगडम (जहां एक पखवाड़े पहले SARS-CoV-2 वायरस का एक नया संस्करण रिपोर्ट किया गया था), से आने वाले कम से कम 138 हवाई यात्रियों ने बिना COVID-19 के नकारात्मक प्रमाणपत्रों के कर्नाटक में प्रवेश कर चुके हैं, सरकार अब इन यात्रियों का पता लगा रही है।

इसके तहत बड़ा फैसला लेते हुये 22 दिसम्बर से नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने यूके से आने वाली सभी उड़ानों पर प्रतिबंध लगा दिया है, और केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने सोमवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को निर्देश जारी किए हैं कि वे यूके से आने वाले हवाई यात्रियों के लिए अनिवार्य रूप से परीक्षण और quarantine प्रोटोकॉल लागू करें। राज्य सरकार को यह जांच करना बाकी है कि पिछले एक पखवाड़े में ब्रिटेन से कितने हवाई यात्री कर्नाटक आए हैं।

यूके से उड़ानों पर अस्थायी प्रतिबंध की घोषणा के एक दिन बाद, केंद्र ने COVID-19 रोगियों की पहचान करने और उन्हें अलग करने के लिए राज्यों को एक विस्तृत दिशानिर्देश जारी किया, जो द्वीप राष्ट्र से आ सकते हैं।

राज्य के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग ने सोमवार 7 दिसम्बर से यूके से आने वाले यात्रियों की सूची प्रदान करने के लिए बेंगलुरु और मंगलुरु अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों को एक निर्देश परिपत्र जारी किया।

स्वास्थ्य मंत्री डॉ॰ के॰ सुधाकर ने खुलासा किया कि रविवार और सोमवार को, ब्रिटिश एयरवेज की फ्लाइट में यूके से आए 291 हवाई यात्रियों में से 49 ने बिना COVID -19 सर्टिफिकेट के यात्रा की। एयर-इंडिया की उड़ान द्वारा आने वाले 246 यात्रियों में से 89 बिना कोविड नकारात्मक प्रमाण पत्र के आए और यहाँ आकार भी उनका टेस्ट नहीं किया गया।

सुधाकर ने कहा, 'ये यात्री बिना लक्षण (asymptomatic) हैं, लेकिन सुरक्षा के लिए हमने नागरिक उड्डयन मंत्रालय से उनका विवरण मांगा है और उन्हें तलाश कर रहे हैं। एक बार उन सभी का पता चलाने पर उनके आरटी-पीसीआर (RT-PCR) परीक्षण किए जाएंगे।" ।

जाहिद अख्तर, अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग के द्वारा हस्ताक्षरित परिपत्र में कहा गया है:"आज से यूके एवं यूके के बाहर के भी अन्य हवाई अड्डों से आने वाली सभी उड़ानों से आने वाले सभी यात्रियों के लिए, आरटी-पीसीआर परीक्षण अनिवार्य तौर पर किया जाना चाहिए।"

"जो आरटी-पीसीआर पॉजिटिव निकले उन्हें अस्पताल के कोरोना वार्ड में अलग से रखा जाएगा और उनके परीक्षण के पॉजिटिव सैंपल को , बेंगलुरु के NIMHANS भेजे जाएंगे। जो यात्री RT-PCR नेगेटिव हैं, वे 14 दिनों के लिए सख्त होम क्वारंटाइन के तहत होंगे। ऐसे सभी यात्रियों का विवरण जिला निगरानी अधिकारियों को दिया जाएगा जिससे वो उनके quarantine के समय उनसे संपर्क में रहें।

सरकार द्वारा यूके से भारत आने वाली उड़ानों पर प्रतिबंध लगाने के निर्णय के कुछ ही घंटों बाद, तेलंगाना सरकार ने उन सभी यात्रियों पर RTPCR परीक्षण करने का फैसला किया, जो पहले से ही ब्रिटेन से राज्य के लिए मार्ग हैं।

इसके साथ ही इस नए COVID-19 से तनाव फैलने की आशंकाओं के बाद, महाराष्ट्र सरकार ने एहतियात के तौर पर 22 दिसंबर से 5 जनवरी तक रात 11 से सुबह 6 बजे के बीच नगर निगम क्षेत्रों में रात का कर्फ्यू घोषित किया।

Share it