Top

दहेज एक अभिशाप : दहेज मुक्त समाज के सच्चे नायकों का सम्मान

हेज एक अभिशाप, विश्व पर्यावरण दिवस, CoronaVirus, Lockdown, Dowry-a-curse-Honoring-the-true-heroes-of-a-dowry-free-societyदहेज एक अभिशाप : दहेज मुक्त समाज के सच्चे नायकों का सम्मान

आज विश्व पर्यावरण दिवस है, भौतिक पर्यावरण के साथ-साथ सामाजिक पर्यावरण भी दहेज जैसी कुप्रथा से प्रदूषित जहरीला हुआ है । समाज का हर वर्ग दहेज के दानव से अभिशप्त है... लेकिन जनपद गौतम बुध नगर में ऐसे अनेकों आदर्श परिवार है जिनकी संख्या अब सैकड़ों में होती जा रही है जिन्होंने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए बगैर दिखावे फिजूलखर्ची के अपने परिवारों में विवाह किए हैं। इन लोगों द्वारा बिना दहेज लिए किए गए इन विवाहों से समाज के लोगों को यह आशा, विश्वास दिलाया है कि दहेज मुक्त समाज की स्थापना असंभव नहीं है।


समाज में अच्छी चीजों को अपनाने के लिए पूर्ण ईमानदारी से केवल प्रयास करने की जरूरत है... समाज को दुष्ट व्यक्ति की दुष्टता नहीं अच्छे व्यक्ति की निष्क्रियता खत्म करती है।

दहेज मुक्त समाज बीड़ा उठाने वाली संस्था "दहेज एक अभिशाप टीम एन॰ सी॰ आर॰" ने आज प्राथमिक चरण में जिला गौतम बुध नगर, उत्तर प्रदेश के गांव श्यो राजपुर, बड़ा खोदना कैलाशपुर खेड़ी एवं सादुल्लापुर के आदर्श परिवारों को जिन्होंने CoronaVirus महामारी के कारण लगे Lockdown के दौरान सादगी से दहेज मुक्त विवाह रचाया उन्हें संस्था द्वारा सन्मान चिन्ह देकर सम्मानित किया व नव दंपत्ति को उत्साहवर्धन करते हुए आशीर्वचन दिया...।

अजय पाल भाटी, लीलू भड़ाना, राजेंद्र भाटी, चंद्र पाल जाटव, जोगेंद्र तोंगड़, संजय तोंगड़ एवं विनय भाटी जो ऐसे आदर्श परिवारों के मुखिया थे उन्हें सम्मानित किया गया ।

प्रात 11:00 बजे से शाम 5:00 बजे तक 5 से अधिक गांव में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए अभिनंदन उत्साहवर्धन का यह कार्यक्रम चला...।

इस अवसर पर "दहेज एक अभिशाप" संगठन की ओर से श्री कर्मवीर बसोया, आर्य सागर खारी, सुरेंद्र बैसला, अधिवक्ता विशाल नागर, सुरेंद्र खारी, जय यादव, रमेश पाल, मनमिंदर बीडीसी, प्रभांशु नागर एवं सिद्धार्थ भाटी ने अपने विचार रखे ।

दहेज मुक्त समाज के लिए युवाओं को भी संबोधित किया गया युवाओं को दहेज मुक्ति का संकल्प दिलाया गया।

बुजुर्गों से आवश्यक सुझाव भी लिए गए ।

संगठन ने प्रथम चरण में 5 गांव को ही चुना है जुलाई माह में प्रत्येक परिवार को सम्मानित किया जाएगा जिन्होंने सच्चे अर्थों में दहेज मुक्त विवाह किया है इसके लिए संगठन सोशल ऑडिट कराएगा।

संस्था के पदाधिकारियों का कहना है कि अच्छे और सच्चे लोगों का उत्साह वर्धन होना चाहिए इससे उन्हें आत्म व मानसिक बल मिलता है अन्य लोगों को भी अच्छे कार्य कुरीति मुक्त समाज में योगदान देने की प्रेरणा मिलती है।
















































































-----------------

आर्य सागर खारी

Share it