Top

भारत में चाइनिज बैंक पर पुण्य प्रसून बाजपेई के झूठ का पर्दाफाश

श्रीमान पुण्य प्रसून बाजपेई

ABP का News सेल्स रूम

NOIDA, UP


दो दिन पहले एक वीडियो देखते हुए अगला वीडियो आपका आ गया, चूँकि मैंने TV पर ख़बरें देखना बंद कर दिया है तो पता नहीं चलता कि कौन कहाँ है। दो दिन पहले ही पता चला कि आजकल आप ABP में है। आपके सुनहरे प्रोफेशनल भविष्य की शुभकामनाएं।

आते हैं मुद्दे पर, आपका वो खबर देखते हुए और आपके द्वारा खबर में डाले गए चम्पकगिरि को देखते हुए लोगों को पता चला कि आप बहुत चालू अजेंडेबाज़ व्यक्ति हैं या फिर एक नंबर के मूर्ख, उस टाइप वाले जिसमे Jack को रखा जाता है। Jack of all trades, master of none वाला जैक। ये वाला जैक हर चीज में राय रखता है।

वैसे केजरीवाल के उस क्रन्तिकारी इंटरव्यू के बाद से ही सारा भारत जनता है कि आप मूर्ख नहीं बल्कि बहुत चालू अजेंडेबाज़ व्यक्ति है। इस रिपोर्ट को देखते समय आपकी एजेंडा थोपने की बेचारगी और चंपूगिरी पर तरस आ रहा था। आपने कहा कि बैंक ऑफ़ चाइना भारत में खुलने का मतलब कि आधार और मोबाइल की जानकारी के जरिये चीन भारतियों का डाटा चोरी कर लेगा। चीन के बैंक के ब्रांच की भारत में ओपनिंग आपको डोकलाम के बाद सरकार का झुकना लग रहा था। आपको इसमें भारत के विदेश नीति की दिशाहीनता और कमजोरी लग रहा था। आपको जो जो लग रहा था उसको गिनाना ही समय ख़राब करने का बात है क्योंकि वो एक चलताऊ और सतही बोल के अलावा कुछ नहीं है। तो आइए अब आपको कुछ बताते हैं जिससे आपकी जानकारी बढ़ेगी और भविष्य में आप इस मामले में चार लोग के बीच में हंसी का पात्र नहीं बनेंगे।

इस मामले पर आप जैसे अल्पज्ञानी के रिपोर्ट के कारण RBI द्वारा बैंक ऑफ़ चायना को दिए लाइसेंस पर कुछ कुछ कोहराम मचा है, इस पत्र के द्वारा उसका पटाक्षेप भी हो जाएगा। चूँकि विदेश से होने वाले अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के बारे में मुझे अच्छी जानकारी है तो आपके द्वारा रायता फैलाए जाने की कोशिश को, आपके ही अल्पज्ञान को दूर करके रोकना है।

क्या आपको लगता है बैंक ऑफ़ चाइना पहला विदेशी बैंक है? क्या आपको पता है, दुसरे चीनी बैंको की ब्रांच भी पहले से भारत में है, चीन के बैंक Industrial & Commercial Bank of China Ltd और CTBC Bank Co. Ltd. की ब्रांच पहले से ही हैं। क्या आपको पता है, भारत में कोरिया, अमेरिका, जापान, ताइवान, फ्रांस, जर्मनी, इटली, तुर्की, कनाडा, बेल्जियम, मलेशिया, नेपाल, ऑस्ट्रिया, ऑस्ट्रेलिया, एमिरेट्स, स्विट्ज़रलैंड, रूस, स्पेन और नाइजीरिया तक के लगभग 45 देशों के करीब करीब 300 ब्रान्च भारत में मौजूद हैं? क्या आपको पता है, इसी तरह भारत के बैंकों ने पूरे विश्व के 52 देशों में लगभग 200 ब्रांच खोल रखे हैं?

क्या आपको पता है कि चीन में भारत के SBI, Bank of India, Bank of Baroda, Canara Bank, ICICI Bank, AXIS Bank की मिला के कुल 7 ब्रांच हैं?

और इसमें अगर हॉन्ग कॉन्ग को भी जोड़ लिया जाए तो Union Bank of India, PNB, Allahabad Bank, Indian Overseas Bank, UCO Bank, HDFC Bank को मिलाकर चीन और हॉन्ग कॉन्ग में भारत के बैंकों की 24 ब्रांच हैं?

भारत के इन बैंको का चीन या हॉन्ग कॉन्ग में ब्राँच होने का मतलब यह नहीं होता की ये आम चीनियों का खाता खोलकर उनसे डील कर रहे हैं, या फिर बैंक ऑफ़ चाइना अब भारत में हमारे आपके शहर, कस्बे गाँव में ब्रांच खोल, आधार और मोबाइल नंबर इकठ्ठा करेगी। ITR, PAN, आधार या कोलेट्रल सिक्योरिटी के बदले ये भारतियों को स्कूटर लोन, मोटरसाइकिल लोन, होम लोन या मुद्रा लोन देंगे। एक देश के किसी बैंक का दुसरे देश में ब्रांच का काम होता है, दुसरे देश में आयात निर्यात आदि में सुविधा प्रदान करना, लेटर ऑफ़ क्रेडिट का प्रबंधन करना, अपने देश के व्यापारियों को ट्रेड फाइनेंस उपलब्ध कराना। वाजपई जी कृपया परेशान न हो, ऐसी ब्रांचे खुलना, भारतीय व्यापारियों के हित में है! क्योंकि भारत का व्यापारी चीन से सिर्फ आयात नहीं करता, बल्कि भारत से चीन को बहुत कुछ निर्यात भी होता है। हमारे निर्यातक अब चीनी व्यापारियों से डील करने के लिए बैंक ऑफ़ चाइना की LOC, या LOI पाएंगे जिससे चीन में होने वाले उनके व्यापार पर मुद्रा सुरक्षा बढ़ेगा।

आशा करता हूँ कि आपको इससे कुछ समझ आया होगा और आप अपने ज्ञान भण्डार को बढ़ाएंगे। आगे से आप रिपोर्ट देने से पहले उस पर ढंग से अनुसन्धान करेंगे और अपने अल्पज्ञान का पुलिंदा नहीं पकड़ाएंगे। आपके द्वारा फैलाया गया पुलिन्दा देश हित में नहीं। ख़बरों के धन्धे की जगह खबरों को प्रसारित करने और लोगों को सत्य बाते का जोखिम उठाइये।

धन्यवाद

रंजय त्रिपाठी

Share it