Top
Breaking News

CAA विरोध में मुस्लिम युवक ने पुलिस के सामने ही भीड़ पर चलाई अंधाधुंध गोलियां

नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (सीएए) के खिलाफ बड़ी संख्या में लोगों के विरोध प्रदर्शन के बाद जाफराबाद के निकट समर्थक और विरोधी सीएए समूहों के बीच रविवार शाम को झड़पें हुईं, जबकि राष्ट्रीय के कई अन्य हिस्सों में भी इसी तरह के सिट-इन की शुरुआत की गई। राजधानी।

नार्थ ईस्ट दिल्ली के जाफराबाद और मौजपुर इलाकों में झड़पों के एक दिन बाद तनाव जारी रहा, आज दोपहर इसी इलाके के जाफराबाद-मौजपुर मार्ग पर एक CAA विरोधी मुस्लिम युवक ने प्रदर्शन के समय गोलियां चला दीं, पुलिस ने उसे रोकने की कोशिश की लेकिन वह मुस्लिम युवक पुलिस से भी नहीं डरा। पुलिस द्वारा रोकने से पहले ही उस शख्स ने 8 राउंड फायरिंग की। बाद में उसकी पहचान एक स्थानीय शख्स "शाहरुख" के रूप में हुई।

यह घटना दिन में उस समय घटित हुई जब इलाके में कुछ समूहों ने जाफराबाद और मौजपुर इलाकों में कम से कम दो घरों को आग लगा दी। रविवार को इस क्षेत्र में सीएए के विरोध एवं समर्थन में प्रदर्शन किए गए थे जो धीरे - धीरे शाम को तक में झड़प में बदल गया।

मौजपुर के चांदबाग इलाके से भी हिंसा की सूचना मिली थी। पुलिस ने रविवार शाम प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे और लाठीचार्ज का भी सहारा लिया था।

वेद प्रकाश सूर्या DCP (नॉर्थ-ईस्ट) ने कहा, "हमने दोनों पक्षों से बात की है, अब स्थिति शांत है। हम लोगों से लगातार बात कर रहे हैं, अब स्थिति नियंत्रण में है।"

अधिकारियों के अनुसार, इस क्षेत्र में आग लगने की प्रतिक्रिया के बाद प्रदर्शनकारियों द्वारा एक फायर टेंडर को क्षतिग्रस्त कर दिया गया था। इसके अलावा भजनपुरा के एक पेट्रोल पंप को भी उपद्रवियों द्वारा आग लगाने की कोशिश की गई।

इलाके में बढ़ते हुये हगामे और तनाव को देखते हुये दिल्ली मेट्रो ने सावधानी स्वरूप जाफराबाद और मौजपुर-बाबरपुर स्टेशनों पर प्रवेश और निकास को बंद कर दिया।

दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (DMRC) ने एक ट्वीट में कहा, "जाफराबाद और मौजपुर-बाबरपुर के प्रवेश और निकास बंद हैं। इन स्टेशनों पर ट्रेनें नहीं रुकेंगी।"

Share it