Top

कहाँ है भीम और मीम: अमरोहा के "गौतम नगर" को बनाया "इस्लाम नगर" गाँव के दलितों में खौफ

कहाँ है भीम और मीम: अमरोहा के गौतम नगर को बनाया इस्लाम नगर गाँव के दलितों में खौफअधिकांश मुस्लिम दूकानदारों ने अपनी दुकानों पर "इस्लाम नगर नौगावाँ सादत" लिखवा कर साईन बोर्ड लगा लिए हैं

प्राप्त सूचनाओं के अनुसार उत्तर प्रदेश के अमरोहा जिले के गौतम नगर में रहने वाले दलित इस समय खौफ के साये में जी रहे हैं। इस खौफ के पीछे का कारण है स्थानीय मुस्लिमों द्वारा मनमाने ढंग से गौतम नगर का नाम बदलने की कोशिश करना, पिछले कुछ दिनों से वहाँ के मुस्लिमों द्वारा अपनी दुकानों पर लगे साइन बोर्ड्स में धीरे-धीरे जगह का नाम 'इस्लाम नगर' लिखा जाने लगा है, जबकि दशकों से यह क्षेत्र 'गौतम नगर' के रूप में ही जाना-पहचाना जाता है।
ध्यान देने योग्य बात ये है कि पहले इस क्षेत्र में मुस्लिम अल्पसंख्यक थे जो धीरे-धीरे बढ़कर बहुसंख्यक हो चुके हैं और अब उनकी हरकतों से ऐसा लगता है कि वो वहाँ रहने वाले हिंदुओं को बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं इसीलिए वो लोग स्थानीय हिन्दू आबादी (जिसमें दलित अधिक हैं) को परेशान करने के कार्य कर रहे हैं। यहाँ रहने वाले अधिकतर दलित स्थानीय स्तर पर छोटे-मोटे कार्य करके ही अपना जीवन यापन करते हैं।
गौतम नगर में एक बाजार है जिसमें लगभग 50-60 दुकानें हैं। इस क्षेत्र के नाम बदलने को लेकर यहाँ लगभग 20 दिन से तनाव बना हुआ है। बाज़ार की करीब आधी से अधिक दुकानों पर लगे साइन बोर्डस में अब एक नया पता दिखाई दे रहा है- "इस्लाम नगर नौगांवां सादात"। इतना ही नहीं कुछ दुकानों पर पहले से लगे साइन बोर्डस पर जहां 'गौतम नगर' लिखा हुआ था, उसके ऊपर जबर्दस्ती काला पेंट पोत दिया गया है, जिससे साफ पता चलता है कि पता नया लिखा गया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार कुछ जिम्मेदार लोगों ने नाम बदलने वाले मुस्लिम दुकानदारों को समझाने की कोशिश भी की, लेकिन उन लोगों कोई भी बात सुनने या मानने से तो इंकार कर ही दिया उल्टा वो दुकानदार उन समझाने गए लोगों के साथ ही गर्मा-गर्मी पर करने लगे।
स्थानीय सूत्रों के अनुसार वहाँ के हिन्दू निवासियों ने बताया, कि उन लोगों ने कुछ दिन पहले पुलिस को इस बारे में लिखित शिकायत दी है, लेकिन पुलिस ने अभी तक उन लोगों पर कोई कार्यवाही नहीं की है जो इस पूरे घटनाक्रम के पीछे हैं। पुलिस एवं स्थानीय प्रशासन की इस लापरवाही के चलते ही वहाँ के हिंदुओं ने कहा कि इस खौफ के साये में हमारे पास अब इसके सिवाय कोई विकल्प नहीं दिख रहा है कि हम गौतम नगर छोड़कर कहीं और चले जाएं।'
जब पुलिस से इस मामले पर बात की गई तो पता लगा कि पुलिस जांच कर रही है। वहाँ के थानाध्यक्ष के अनुसार, 'पुलिस को इस बारे में 29 जनवरी को शिकायत मिली है और वो मामले की जांच कर रहे हैं। मामले की जांच पूरी होने के बाद ही आगे की कार्रवाई या FIR की जाएगी।' जिले के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बृजेश सिंह ने बताया, 'कि कानूनन किसी भी इलाके का नाम इस तरह से नहीं बदला जा सकता। इस बारे में संबंधित अधिकारियों को आधिकारिक प्रस्ताव देना होता है, इसके बाद ही जरूरी बदलाव किए जा सकते हैं।'
आश्चर्यजनक बात तो ये है कि "स्थानीय विधायक और यूपी के खेल मंत्री चेतन चौहान इस पूरे घटनाक्रम से अनभिज्ञता जाहिर करते हुये कहा 'मुझे इस मामले की जानकारी नहीं है। यदि ऐसा कुछ हुआ है तो यह कानून के खिलाफ है। इसमें शामिल लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।"

Share it