अखिलेश ने 2019 में मात्र 2 सीट देने की बात कह कर दिखाई कांग्रेस को उसकी की औकात

अखिलेश यादव, राहुल गांधी, कांग्रेस, उत्तरप्रदेश, राजनीति, लोकसभा 2019, Akhilesh Yadav, Congress, UP, Politics, Loksabha 2019अखिलेश ने दिखाई कांग्रेस को औकात

उत्तर प्रदेश में आने वाले 2019 के लोकसभा चुनावों में विपक्षी एकता का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि मुख्य विपक्षी समाजवादी पार्टी ने संकेत दिया है कि वह रायबरेली और अमेठी के गांधी नगर में दो सीटों से ज्यादा कांग्रेस को समायोजित नहीं करेगा।

वैसे तो एसपी यूपी में कांग्रेस को आगे लाने के लिए उत्सुक नहीं है लेकिन अखिलेश ने इशारा दिया कि राय बरेली और अमेठी में वह कांग्रेस के खिलाफ उम्मीदवारों को मैदान में नहीं उतारेंगें।

हालांकि, एसपी ने कहा है कि उन्होंने राज्य में गठबंधन के लिए बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) और राष्ट्रीय लोक दल (आरएलडी) के साथ बातचीत पूरी की है। एक वरिष्ठ एसपी नेता ने सोमवार को यूएनआई को बताया कि समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस के साथ गठबंधन बनाने के 2017 के विधानसभा चुनावों से सबक लेते हुए, इस बार 2019 में इसे दोहराने में इतनी उत्सुक नहीं है।

उन्होने कहा, "हम एसपी-बसपा के साथ गठबंधन के लिए तैयार है क्योंकि इससे हमें कांग्रेस की तुलना में अधिक मदद मिलेगी।

इसके अलावा, कांग्रेस राजनीतिक कथाओं में फिट नहीं लगती है, इसलिए एसपी अध्यक्ष अखिलेश यादव मायावती के बसपा के साथ मिलकर बनाना चाहते हैं।

इस बार का उद्देश्य 85 प्रतिशत बनाम 15 प्रतिशत होगा, जो दलित, पिछड़ा और मुसलमानों की ऊपरी जातियों के खिलाफ एकीकरण है।

एसपी नेता ने कहा, "एसपी कांग्रेस को ऊपरी जाति पार्टी के रूप में देखती है।"

2017 के अनुभवों से यह भी पता चला कि एसपी-कांग्रेस गठबंधन एक झटका था क्योंकि अन्य पिछड़ी जाति के लोग जो आमतौर पर एसपी को समर्थन करते थे, उन्होंने इस गठबंधन के बाद एसपी को वोट नहीं दिये थे।

Share it
Top