Top

फ्रांस - छात्रों को "मोहम्मद का कार्टून दिखाने पर शिक्षक का सिर काटा"

फ्रांस - छात्रों को मोहम्मद का कार्टून दिखाने पर शिक्षक का सिर काटा

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, विश्वास करना या न करना सिखाया था। हमारा हमवतन एक कट्टर इस्लामिक आतंकवादी हमले का शिकार हुआ है

फ्रांस की राजधानी पेरिस के बाहरी इलाके में मध्य विद्यालय "Conflans Saint-Honorine" में कार्यरत शिक्षक पर हमला हुआ।

फ्रांस के अधिकारियों ने शुक्रवार को कहा कि फ्रांस में एक मध्य विद्यालय के इतिहास के शिक्षक को उस स्कूल के पास मौत के घाट उतार दिया गया, जहां उन्होंने इस महीने अपने विद्यार्थियों को पैगंबर मोहम्मद के कार्टून दिखाए थे।

फ्रांस में व्यंग्य पत्रिका चार्ली हेब्दो और राजधानी पेरिस की एक यहूदी सुपरमार्केट पर 2015 के आतंकवादी हमलों के बाद से इस्लामी हिंसा की लहर चल रही है।

पुलिस के अनुसार जिस शिक्षक पर ये हमला हुआ वह इतिहास के शिक्षक थे, बताया जा रहा है कि बच्चों को पढ़ाते हुये वह उन्हें "अभिव्यक्ति की आजादी" के बारे में समझा रहे थे जिस दौरान उन्होंने विद्यार्थियों को चार्ली हेब्दो द्वारा पैगंबर मोहम्मद के कैरिकेचर (कार्टून) को प्रोजेक्टर पर कक्षा में दिखाया था, उनके द्वारा इस कार्टून के दिखाये जाने के विरोध में शुक्रवार को पेरिस उपनगर में एक संदिग्ध इस्लामिक आतंकवादी द्वारा उन पर हमला किया गया था, हमला करते हुये वह "अल्लाहु अकबर" चिल्लाया था

ये हमला 16 अक्तूबर शुक्रवार को लगभग शाम 5:00 बजे हुआ। जहां हमला हुआ वह स्थान फ्रांस की राजधानी के केंद्र से लगभग 30 किलोमीटर दूर एक उत्तर-पश्चिमी उपनगर है।

फ्रांसीसी आतंकवाद-विरोधी अभियोजकों ने कहा कि वे इस हमले को "एक आतंकवादी संगठन से जुड़ी हत्या" के रूप में मान रहे हैं।

सूत्रों के अनुसार शनिवार को एक नाबालिग सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इन सभी का संबंध हमलावर के साथ जोड़ा गया।

स्थानीय निवासियों के अनुसार, पुलिस ने एक व्यक्ति की गोली मारकर हत्या कर दी, वह रसोई के चाकू और एक हवाई बंदूक से लैस था। पहले पुलिस ने उसका सामना किया लेकिन उसने अपने हथियारों को छोड़ने और आत्मसमर्पण से इनकार कर दिया, और उन्हें धमकी दी।

कुछ मिनट बाद, अधिकारियों को पुरुष शिक्षक का शव मिला। इस घटनाक्रम के समय एक बम निरोधक दस्ते को यह जाँचने के लिए बुलाया गया था कि क्या निर्धारित हमलावर आत्मघाती बनियान या बेल्ट पहने हुए था। पुलिस सूत्रों ने कहा कि प्रत्यक्षदर्शियों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने हमलावर को "अल्लाहु अकबर" [told ईश्वर अरबी में सबसे बड़ा है) चिल्लाते हुए सुना।

पुलिस के अनुसार शिक्षक द्वारा अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर विद्यार्थियों को विवादित कार्टून दिखाए जाने के कारण एक वर्ग द्वारा जान से मारने की धमकी मिली थी।

स्रोत के अनुसार, हमलावर के पास मिले एक पहचान पत्र से संकेत मिलता है कि वह 2002 में मास्को में पैदा हुआ था, हालांकि जांचकर्ता औपचारिक पहचान की प्रतीक्षा कर रहे हैं। हत्यारे को 18 वर्षीय एक चेचन नागरिक के रूप में बताया जा रहा है जो शायद फ्रांस में शरणार्थी बनकर आया था।

पुलिस ने कहा कि वे एक ट्विटर अकाउंट से पोस्ट किए गए एक ट्वीट की जांच कर रहे थे जिसमें शिक्षक के सिर की एक तस्वीर दिखाई गई थी, लेकिन वह अकाउंट तब से बंद है। उन्होंने कहा कि ये हमलावर द्वारा पोस्ट किया गया था, ये ठीक ज्ञात नहीं है कि वह ट्वीट कहाँ से था लेकिन उसमे एक संदेश था जिसमें श्री मैक्रोन के के लिए एक धमकी थी - जिसमें उन्हें "काफिरों का नेता" बताया गया था।

स्कूल के पास एक संदिग्ध व्यक्ति देखे जाने के बारे में कॉल मिलने पर पुलिस घटनास्थल पर पहुंची थी। पुलिस को वहाँ एक व्यक्ति का शव मिला और जल्द ही संदिग्ध को भी एक चाकू और एक हवाई बंदूक से लैस देखा, जिसने उन्हें गिरफ्तार करने की कोशिश करने पर उन्हें धमकी दी।

SNES-FSU teachers' union की उप-प्रमुख Sophie Vénétitay ने कहा: "उनकी हत्या इसलिए की गई क्योंकि वह अपना काम कर रहे थे, अर्थात् आलोचनात्मक विचार सिखा रहे थे। उन्होंने कहा कि वह एक इतिहास और भूगोल के शिक्षक थे जो नैतिक और नागरिक शिक्षा के प्रभारी थे"। सोफी ने आगे कहा कि अपने उस कार्य के अंतर्गत ही, उन्होंने मोहम्मद के कार्टून के साथ अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर एक सबक दिया, ।

सूत्र ने कहा, कि इस बारे मे अभी भी सवाल है कि "हत्यारे को कट्टरपंथी बनाया गया था या कोई और मकसद हो सकता है, लेकिन इस बारे जांच से यह स्पष्ट हो जाएगा और किन्तु जो हुआ है उसकी परिकल्पना ही आतंकवाद है।"

इस बारे में चार्ली हेब्दो ने कहा है कि "ये भयानक है कि एक शिक्षक जो अपना काम कर रहा था उसे एक धार्मिक कट्टरपंथी द्वारा मार दिया गया"।

राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन सहित सरकार के कई मंत्रियों ने आंतरिक मंत्रालय में संकट की बैठक के बाद घटनास्थल का दौरा किया। शुक्रवार रात को घटनास्थल से बोलते हुए, राष्ट्रपति मैक्रोन ने कहा: "हमारे एक साथी की हत्या इसलिए कर दी गई क्योंकि उन्होंने सिखाया था, उन्होंने अपने विद्यार्थियों को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, विश्वास करना या न करना सिखाया था। हमारा हमवतन एक कट्टर इस्लामिक आतंकवादी हमले का शिकार हुआ है। उन्होंने परिवार, दोस्तों और माध्यमिक स्कूल (जहां पीड़ित ने पढ़ाया) में अपनी संवेदना व्यक्त की" ।

श्री मैक्रॉन ने कहा: "यह कोई संयोग नहीं था कि आतंकवादी ने एक शिक्षक को मार डाला क्योंकि वह गणतंत्र और उसके मूल्यों को मारना चाहता था। प्रबुद्धता, (है) हमारे बच्चों को बनाने की संभावना, वे जहां से भी आते हैं, जो कुछ भी वे मानते हैं, चाहे वे मानते हैं या नहीं, जो भी उनका धर्म है, उन्हें मुक्त नागरिकों में बदलना"। उन्होंने कहा "यह लड़ाई हमारी है और यह अस्तित्वगत है, । उन्होंने कहा "कि वह पास नहीं होगा। प्रगतिविरोधी और उसके साथ होने वाली हिंसा नहीं जीतेगी। वे हमें विभाजित नहीं कर पाएंगे। यही तो वे चाहते हैं लेकिन हमें साथ खड़ा होना चाहिए"।

Share it