भारत-इजरायल का साझा फैसला, आतंकवादियों को पनाह देने वालों पर हो सख्त कार्रवाई

भारत-इजरायल का साझा फैसला, आतंकवादियों को पनाह देने वालों पर हो सख्त कार्रवाई

भारत और इजरायल ने आतंकवाद को शांति और सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा करार देते हुए आतंकवादियों और उन्हें पनाह एवं वित्तीय मदद देने वालों के खिलाफ कड़े कदम उठाने की जरूरत बतायी है और रक्षा एवं सुरक्षा क्षेत्र में द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने की प्रतिबद्धता व्यक्त की है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अौर इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजमिन नेतन्याहू के बीच आज यहां हुई बैठक के बाद जारी संयुक्त बयान में विभिन्न क्षेत्रों में द्विपक्षीय सम्बन्धों को अगले 25 वर्षाें में नयी ऊंचाइयों पर ले जाने का संकल्प व्यक्त किया गया है। श्री नेतन्याहू की यह यात्रा दोनों देशों के बीच राजनयिक सम्बन्धों के 25 वर्ष पूरा होेने के मौके पर हो रही है।
दोनों नेताओं ने आतंकवादियों और उनके संगठनों के साथ -साथ आतंकवाद को प्रायोजित और वित्तीय मदद करने तथा आतंकवादियों को पनाह देने वालों के खिलाफ कड़े कदम उठाने की जरूरत बतायी । उन्होंने दोहराया कि किसी भी स्थिति में आतंकवादी गतिविधियों को जायज नहीं ठहराया जा सकता है।
दोनों देश संयुक्त उपक्रम के जरिये रक्षा और सुरक्षा क्षेत्र में 'मेक इन इंडिया 'कार्यक्रम के तहत प्रौद्योगिकी हस्तांतरण और शोध समेत रक्षा उत्पादन के लिए सहयोग बढ़ायेंगे । दोनों नेताओं ने सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र की सक्रिय भागीदारी से रक्षा उद्योग क्षेत्र में दीर्घकालिक ,टिकाऊ और व्यावहारिक सहयोग का आधार तैयार करने के लिए दोनों देशों के रक्षा मंत्रियों से 2018 में गहन विचार -विमर्श करने करने को कहा है।

Share it
Top