Top

पाक है "झूठा और धोखेबाज", आतंकियों के लिए पनाहगाह: डोनाल्ड ट्रम्प

पाक है झूठा और धोखेबाज, आतंकियों के लिए पनाहगाह: डोनाल्ड ट्रम्पडोनाल्ड ट्रम्प ने पाकिस्तान को "झूठा और धोखेबाज" का तमगा देते हुये आतंकियों की पनाहगाह कहा

दिल्ली/वाशिंगटन (एजेंसी) : नए साल के पहले दिन जहाँ सब नए साल का जश्न माना रहे हैं वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा किया गया ट्वीट ने पाकिस्तान के बुरे दिनों की घोषणा कर दी है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने पाकिस्तान को वर्षों से अमेरिका द्वारा दी जा रही मदद पर हमला बोलते हुए आज आरोप लगाया कि पाक ने पिछले 15 वर्षों में 33 अरब डालर की अमेरिकी सहायता के बदले 'झूठ और धोखे' के सिवा कुछ भी नहीं दिया है। साथ ही ट्रंप ने पाकिस्तान पर ने आतंकवादियों को ''सुरक्षित पनाहगाह'' मुहैया करने का आरोप भी लगाया।

ट्रम्प द्वारा बेहद सख्त लहजे में काही गई इन बातों से ऐसा संकेत मिला कि अमेरिका द्वारा पाकिस्तान दी जाने वाली सहायता रोक सकता हैं।

ट्रंप ने अपने ट्वीट में बहुत ही सख्त शब्दों का प्रयोग कराते हुये कहा, ''अमेरिका ने मूर्खतापूर्ण तरीके से पाकिस्तान को गत 15 वर्षों में 33 अरब डालर से अधिक की सहायता दी और उन्होंने हमारे नेताओं को मूर्ख सोचते हुए हमें 'झूठ और धोखे' के अलावा कुछ भी नहीं दिया।'' उन्होंने कहा कि "पाकिस्तान ने उन आतंकवादियों को अपने यहाँ सुरक्षित पनाहगाह उपलब्ध करायी जिन आतंकियों को हम अफगानिस्तान में तलाश करते रहे"। ट्रम्प ने कहा "बस अब और नहीं।'' यह अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की ओर से किया गया सबसे कड़ा हमला है। उनकी टिप्पणी न्यूयार्क टाइम्स की उस खबर के कुछ दिन बाद आयी है जिसमें कहा गया था कि अमेरिका आतंकवाद के खिलाफ युद्ध में पाकिस्तान की अनिच्छा के प्रति अपना असंतोष व्यक्त करते हुए उसे दी जाने वाली 22.5 करोड़ डालर सहायता रोकने पर विचार कर रहा है।

एक पाकिस्तानी मीडिया ने बताया कि ट्रंप द्वारा यह टिप्पणी करने के कुछ ही समय बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ ने प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी से मुलाकात की।

जियो टीवी ने अपने सूत्रों के हवाले से कहा, ''बैठक में ट्रंप के बयान की एक विस्तृत समीक्षा की गई।'' उसने कहा कि दोनों नेताओं ने देश की विदेश नीति पर चर्चा की।

आसिफ ने ट्वीट किया, ''हम अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के ट्वीट पर इंशाअल्लाह जल्द जवाब देंगे...हम विश्व को सच्चाई बताएंगे....तथ्यों और गढ़ी कहानी का अंतर बताएंगे।'' गत नवम्बर में अमेरिका ने पाकिस्तान द्वारा मुम्बई आतंकवादी हमले के मुख्य षड्यंत्रकर्ता हाफिज सईद की रिहायी की कड़ी निंदा की थी और उसे तत्काल फिर से गिरफ्तार करने और उसके खिलाफ मामला चलाने की मांग की थी। अमेरिका ने चेतावनी दी थी कि यदि पाकिस्तान जमात उद दावा प्रमुख हाफिज सईद के खिलाफ कोई ''निर्णायक कार्रवाई'' करने में असफल रहा तो उसके द्विपक्षीय संबंधों पर ''प्रभाव'' होंगे।

Share it