थम गया गुजरात विधानसभा चुनाव के प्रचार का शोर

थम गया गुजरात विधानसभा चुनाव के प्रचार का शोर

गुजरात विधानसभा चुनाव के दूसरे और अंतिम चरण में 14 दिसंबर को उत्तर और मध्य गुजरात के 14 जिलों की 93 सीटों पर होने वाले मतदान के लिए तीखे आरोप प्रत्यारोपों वाला प्रचार अभियान आज शाम पांच बजे थम गया।
2012 के पिछले चुनाव में सत्तारूढ भाजपा ने इनमें से 52, कांगेस ने 39 और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी तथा निर्दलीय ने एक एक सीट जीती थी। गुजरात के मुख्य निर्वाचन अधिकारी बी बी स्वेन ने बताया कि 48 घंटे पहले प्रचार थम गया। अब कोई बाहरी व्यक्ति चुनाव क्षेत्रों में नहीं रह सकता। पहले चरण में नौ दिसंबर को 19 जिलों की 89 सीटों पर हुए चुनाव के लिए चले प्रचार की तर्ज पर दूसरे चरण के प्रचार की कमान भी सत्तारूढ भाजपा के लिए स्वयं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तथा कांग्रेस के नामित अध्यक्ष राहुल गांधी ने खुद संभाल रखी थी। दूसरे चरण का प्रचार अभियान पहले से अधिक कड़वाहट वाला रहा। श्री मोदी और श्री गांधी ने एक दूसरे के खिलाफ कड़े जुबानी हमले किये। भाजपा और श्री मोदी ने चुनाव में पाकिस्तान के हस्तक्षेप के प्रयास का आरोप भी लगाया। इसके अलावा श्री मणिशंकर अय्यर के श्री मोदी को नीच कहे जाने के बाद से इस मुद्दे की गूंज भी श्री मोदी की लगभग हर रैली में सुनायी दी। उधर श्री गांधी और अन्य कांग्रेस नेताओं ने नोटबंदी, जीएसटी, उद्योगपतियों से भाजपा सरकार की कथित साठगांठ जैसे पुराने मुद्दों को उठाने के अलावा श्री मोदी के आरोपों का भी कड़े अंदाज में जवाब दिया। प्रचार के अंतिम दिन आज दोनो ने अलग अलग मंदिरों में दर्शन भी किये। श्री मोदी ने सी प्लेन में उड़ान भी भरी। दोनो आज नयी दिल्ली रवाना हो गये। पर वह मतदाता के तौर पर वोटिंग के लिए अहमदाबाद आयेंगे।
दूसरे चरण में उपमुख्यमंत्री नीतिन पटेल (महेसाणा), मंत्री भूपेन्द्र चूडासमा (धोलका), मंत्री शंकर चौधरी (वाव), कांग्रेस के अल्पेश पटेल (राधनपुर), पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सिद्धार्थ पटेल (डभोई), कांग्रेस समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार जिग्नेश मेवाणी (वडगाम) जैसे प्रमुख चेहरों समेत कुल 851 उम्मीदवार मैदान में हैं। इनमें 69 महिलाएं हैं। भाजपा ने 93 कांग्रेस 91 राकांपा 28, बसपा 75, आप 8, शिव सेना 17, जदयू ने 14 उम्मीदवार उतरे हैं। 350 निर्दलीय तथा गैर मान्यता प्राप्त दलों के 170 उम्मीदवार भी मैदान में हैं। सर्वाधिक 34 उम्मीदवार महेसाणा सीट पर तथा सबसे कम दो झालोद (आदिवासी सुरक्षित) सीट पर हैं। क्षेत्रफल के लिहाज से सबसे छोटा क्षेत्र दरियापुर (6 वर्ग किमी) तथा सबसे बड़ा राधनपुर कुल मतदाताओं की संख्या 2.22 करोड़ है जिसमें 1.15 करोड पुरूष हैं। इनमें से आधे से अधिक 40 साल से कम उम्र के और 15 फीसदी से अधिक 25 साल से कम उम्र के हैं। कुल 24575 बूथ बनाये गये हैं। क्षेत्रफल के हिसाब से सबसे छोटा विधानसभा क्षेत्र दरियापुर (6 वर्ग किमी) और सबसे बड़ा राधनपुर (2544 वर्ग किमी) है जबकि मतदाताओं की संख्या के लिहाज से लीमखेड़ा (187245) सबसे छोटा और अहमदाबाद का घाटलोडिया (352316) सबसे बड़ा है। डेढ से दो लाख मतदाताओं वाले सात तथा शेष 86 दो लाख से अधिक वाेटरों वाले हैं।
दूसरे चरण के मतदान के साथ ही पहले चरण की छह बूथ पर पुनर्मतदान भी सुबह आठ से शाम पांच बजे तक होगा। इन पर इवीएम में चुनाव के पहले जांच के लिए किये गये मॉक पॉल के आंकड़े को मिटाया नहीं गया था। इनमें से दो दो बूथ जामजोधरपुर और उना तथा एक एक निझर और उमरगांव विधानसभा क्षेत्र में हैं।
पहले चरण में मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष जीतू वाघाणी समेत कुल 977 उम्मीदवार थे। इसके लिए 66.75 प्रतिशत मतदान हुआ था जो पिछली बार से 4 प्रतिशत कम था। मतगणना 18 दिसंबर को होगी।

Share it
Top