भयंकर बारिश से जामा मस्जिद का इलाका बना केरल

भारी बारिश ने शनिवार सुबह दिल्ली को धराशायी कर दिया, जिससे राष्ट्रीय राजधानी के कई हिस्सों में जल-भराव और यातायात जाम हो गया। कई इलाकों में लंबा पावर कट भी रहा। खैर आपको बता दें कि अभी हम पूरी दिल्ली नहीं बल्कि दिल्ली के एक ऐसे हैरिटेज क्षेत्र की बात कर रहे हैं जहां हर दिन सुबह-शाम देश के कम लेकिन विदेश के अधिक टूरिस्टों का तांता लगा रहता है। भयंकर बारिश से जामा मस्जिद के पास का पूरा इलाका पानी में डूब गया। सितम्बर की पहली सुबह जैसे सितम लेकर ही आई मात्र एक-डेढ़ घंटे की बारिश से ही गलियों में 2 फीट से अधिक पानी भर गया जिसका परिणाम ये हुआ कि वो पानी घरों में घुसा और घरों में भी पानी भर गया। बिलकुल ऐसा प्रतीत हो रहा था मानों सुबह ही सुबह केरल पहुँच गए हों।

सुबह बच्चों का स्कूल व कामकाजी लोगों का दफ्तर जाना मुश्किल हो गया। कई लोगों ने इस जल भराव के डर से बच्चों को स्कूल न भेजने का निर्णय लिया।

आपको बता दें कि इस क्षेत्र की ज़िम्मेदारी कांग्रेस, बीजेपी या आम आदमी पार्टी में से किसी एक ही पार्टी की नहीं है। बल्कि यहाँ के शासन में तीनों ही पार्टियां अलग-अलग स्तर पर भागीदारी है। यहाँ के सांसद डॉ हर्षवर्धन बीजेपी से है तो विधायक अल्का लांबा, आम आदमी पार्टी से तथा निगम पार्षद सुल्ताना आबाद खान कांग्रेस से हैं।

तीन बड़ी पार्टियों के शासन के बावजूद भी सभी ने यहाँ की जनता की सहायता करने की जगह हाथ खड़े कर दिये।

जब दिल्ली जल बोर्ड जो की राज्य सरकार यानि आम आदमी पार्टी के अंतर्गत आता है, को फोन कर समस्या बताई गई तो उन्होंने इस समस्या का पूरा ठीकरा ही एमसीडी के सिर पर फोड़ दिया और एमसीडी से ही शिकायत करने को कहा जब हमने उनकी बात मान कर क्षेत्र की निगम पार्षद सुल्ताना आबाद खान (कांग्रेस) को फोन करके समस्या से अवगत कराया तो उन्हों ने बात तो की लेकिन उनका कहना था कि इस समस्या के हल करने की पूरी ज़िम्मेदारी ही दिल्ली जल बोर्ड की है। मोटे तौर पर बस आरोप-प्रत्यारोप होते रहे और किसी ने भी आगे बड़ कर ज़िम्मेदारी नहीं ली।

1 घंटे की मूसलाधार बारिश के कारण वकीलपुरा के इस मकान की दीवार भी ढह गई, वो तो ईश्वर का धन्यवाद की कोई हादसा नहीं हुआ

साथ ही जब यहाँ की एमएलए अल्का लांबा (आम आदमी पार्टी) को फोन किया गया, तो 10 काल्स के बाद भी उनकी ओर से कोई उत्तर नहीं आया। एमएलए साहिबा के पास जनता की बात सुनने का तो समय नहीं है परंतु हम अपनी इस खबर के माध्यम से अल्का जी को बताना चाहेंगे कि आपको चुनाव क्षेत्र के ही एक इलाके वकीलपुरा में इस बारिश के चलते एक पुराने मकान की दीवार गिर गई है और इन हालातों में बड़ी दुर्घटना का खतरा लोगों के सिर पर मंडरा रहा है।


इस सब से परेशान यहाँ के आम नागरिकों ने जब आम आदमी पार्टी के दफ्तर फोन किया तो यह कह दिया गया कि पानी तो पूरी दिल्ली में भरा है ज़रा तसल्ली रखिए, अपने आप चला जाएगा।

केजरीवाल जी जनता कब तक तसल्ली रखे? जब तक पानी 2 फुट से 4 फुट न हो जाए तब तक? या जब तक गलियों में ऊंचाई तक भरे उस पानी में किसी बच्चे या बुजुर्ग के गिरने से कोई दुखद हादसा न हो जाए ?

Share it
Top