जालंधर कॉलेज होस्टल से तीन कश्मीरी मुसलमान गिरफ्तार, आतंकी जाकिर मूसा के नेटवर्क से सम्बद्ध : एके 47, पिस्टल, मैगजीन और विस्फोटक जब्त

जालंधर, कश्मीरी मुसलमान, जाकिर मूसा, अंसार गजवात उल हिन्द, पंजाब डीजीपी सुरेश अरोड़ा, डीजीपी दिलबाग सिंह, अवंतीपुरा, पुलवामा, चेयरमैन चरणजीत सिंह चानी, पाकिस्तानी, हिजबुल मुजाहिद्दीन, गाजी अहमद मलिइन तीनों की पहचान राजपुरा, अवंतीपुरा का जाहिद गुलजार, पुलवामा का इदरीश शाह उर्फ नदीम और नूरपुर पुलवामा का यूसुफ रफीक भट्ट के रूप में किया गया है

जम्मू-कश्मीर पुलिस और पंजाब पुलिस के जॉइंट ऑपरेशन में "अंसार गजवात उल हिन्द" और जैश ए मुहम्मद से संबंध रखने वाले तीन कश्मीरी छात्र जालंधर शहर के बाहरी क्षेत्र शाहपुर में स्थित सिटी कालेज ऑफ इंजीनियरिंग मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी से गिरफ्तार। इन तीनों की पहचान राजपुरा, अवंतीपुरा का जाहिद गुलजार, पुलवामा का इदरीश शाह उर्फ नदीम और नूरपुर पुलवामा का यूसुफ रफीक भट्ट के रूप में किया गया है। पुलिस ने बताया कि हथियार गुलजार के हॉस्टल रूम से जब्त हुआ है। चौथा व्यक्ति जो इनके पीछे का सब कुछ संहालने वाला काम करता था वह कश्मीर घाटी में अवंतीपुरा, पुलवामा से गिरफ्तार हुआ है। उससे पूछताछ चल रही है। वह इस मॉड्यूल का हेड है।

डीजीपी दिलबाग सिंह ने मीडिया को बताया कि जाकिर मूसा ग्रुप से इनके संबंधों के बारे में जानकारी प्राप्त होने के बाद ही इनकी गिरफ्तारी की गई। इनका काम करने का मॉड्यूल जाकिर मूसा ग्रुप का ही लगता है। इनके पास से एक एके 47, एक इटालियन मेड पिस्टल, दो मैगजीन और बिस्फोटक जब्त हुआ है। पंजाब के डीजीपी सुरेश अरोड़ा के अनुसार इनका संबंध आतंकी संगठन ""अंसार गजवात उल हिन्द"" से है। ज्ञात हो कि "अंसार गजवात उल हिन्द" का संचालक जाकिर मूसा अर्थात जाकिर राशिद भट्ट है।

बुधवार को जब पुलिस ने इनके होस्टल के कमरे पर छापामारी किया तब जाहिद गुलजार के कमरे में ही इदरीश शाह और यूसुफ रफीक भट्ट मौजूद थे। जाहिद गुलजार सिटी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी में सिविल इंजीनियरिंग का तृतीय वर्ष का विद्यार्थी था। रफीक भट्ट भी उसी कॉलेज का बीटेक का विद्यार्थी था जबकि इदरीश शाह सेंट सोल्जर मैनेजमेंट कॉलेज में मेडिकल साइंस लैब में बीएससी में था। ये तीनों जालंधर में दो तीन वर्षों से रह रहे थे और विगत वर्ष से आतंकी गतिविधियों में लिप्त थे।

डीजीपी ने बताया कि इनके विरुद्ध सदर थाना में आईपीसी की धारा 121 (वेजिंग और एटेम्प्टिंग टू वेज वॉर एगेन्स्ट द नेशन), 120 बी (आपराधिक षड्यंत्र), आर्म्स एक्ट और एक्प्लोसिव्स एक्ट की धाराओं के अंतर्गत वाद पंजीकृत किया गया है। डीजीपी अरोड़ा ने यह भी बताया कि इस मॉड्यूल का पर्दाफास और हथियारों की जब्ती से यह संकेत मिलता है कि भारत की पश्चिमी सीमा पर आईएसआई आतंकवाद को बढ़ावा देने को प्रयत्नशील है। उन्होंने बताया कि "अंसार गजवात उल हिन्द" के पाकिस्तान बेस्ड आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद से संबंधों की पड़ताल भी किया जा रहा है।

जालंधर एक एजुकेशन हब है जहाँ 500 से अधिक कश्मीरी विद्यार्थी भिन्न-भिन्न कैम्पस में रहते हैं। बुधवार की गिरफ्तारी से पंजाब पुलिस की चिंता बढ़ गयी है। पुरे पंजाब में कश्मीरी विद्यार्थियों की बहुत बड़ी संख्या है। ऐसे में इनके आतंकी संगठनों से संबंध निश्चित ही बहुत गंभीर चिंता का विषय है। यह बात एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने मीडिया को बताया। इन आतंकवादियों के द्वारा पंजाब में दीपावली में बड़ी आतंकी बारदात की योजना थी। इस घटना से छात्रों में दहशत का माहौल है। इस गिरफ्तारी से पंजाब पुलिस भी बहुत सतर्क हो गयी है और पूरे राज्य में सतर्कता बढ़ा दी गई है।

विगत 27 अप्रैल को पुलिस ने दो पाकिस्तान समर्थक कश्मीरी हैकर्स को जालंधर और राजपुरा से गिरफ्तार किया था। दोनों ही विद्यार्थी थे और 500 से अधिक भारतीय वेबसाईट हैक कर चुके थे।

सिटी ग्रुप के चेयरमैन चरणजीत सिंह चानी ने प्रायवेसी इश्यू की चर्चा करते हुए कहा कि संस्थान एक एक विद्यार्थी और बाहर से आने वाले व्यक्ति का बैग चेक नहीं कर सकता है। उन्होंने कहा कि हम हरेक को संदेह की दृष्टि से नहीं देख सकते।

विगत काल में सोपियाँ का रहने वाला गाजी अहमद मलिक पंजाब पुलिस द्वारा बानूर, पटियाला से गिरफ्तार किया गया था। वह बानूर में पॉलिटेक्निक की पढाई कर रहा था। पुलिस के अनुसार गाजी बहुत निकटता से आदिल बशीर शेख से जुड़ा हुआ था। आदिल बशीर शेख जम्मू-कश्मीर पुलिस का स्पेशल पुलिस ऑफिसर था जो पीडीपी एमएलए के घर से 7 रायफल लेकर भाग गया था। वह हिजबुल मुजाहिद्दीन से जुड़ा हुआ था। कश्मीरी मुसलमान विद्यार्थियों का पंजाब में पाकिस्तानी आतंकी नेटवर्क के इशारे पर सक्रिय होना पंजाब में आतंकवाद लौटने का खतरनाक संकेत है। यह पंजाब की सुरक्षा के साथ साथ भारत की पश्चिमी सीमाकी सुरक्षा के लिए बहुत बड़ा खतरा है।

Share it
Top